सोमवार, 24 अक्तूबर 2011

जाने किसके नाम 14

जाने किसके नाम
हवा बिछाती पीले पत्ते
रोज सुबह से शाम।


टेसू के फूलों में कोई मौसम फूट रहा
टीले पर रुमाल नाव में रीबन छूट रहा
बंद गली के सिर आया है
एक और इल्जाम।


क्या कहने हैं पढ़ने लायक सरसों के तेवर
भाभी खातिर कच्ची अमियाँ बीछ रहे देवर
नये -नये अध्याय खोलते
नए नए आयाम।


टूट रही है देह सुबह से उलझ रही आँखे
फिर बैठी मुंडेर पर मैना फुला रही पाँखे
मेरे आंगन महुआ फूला
मेरी नींद हराम।

--कैलाश गौतम

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें